कटिपिण्डमर्दनासन (katipindramdanasan) करने का विधि और लाभ


    कटिपिण्डमर्दनासन (katipindramdanasan) इस आसन में कटिप्रदेश (कमर के पास वाले भाग) में स्थित पिण्ड अर्थात मूत्रपिण्ड का मर्दन होता है, इससे यह आसन कटिपिण्डमर्दनासन कहलाता है। ध्यान स्वाधिष्ठान चक्र में। […]

Read Article →

सिद्धासन (Siddhasana) करने का विधि और लाभ !!


  सिद्धासन (Siddhasana) पद्मासन के बाद सिद्धासन का स्थान आता है। अलौकिक सिद्धियाँ प्राप्त करने वाला होने के कारण इसका नाम सिद्धासन पड़ा है। सिद्ध योगियों का यह प्रिय आसन […]

Read Article →

सर्वांगासन (Sarvangasana) करने का विधि और लाभ !!


  सर्वांगासन (Sarvangasana) भूमि पर सोकर शरीर को ऊपर उठाया जाता है इसलिए इसको सर्वांगासन कहते हैं। ध्यान विशुद्धाख्य चक्र में, श्वास रेचक, पूरक और दीर्घ। सर्वांगासन के विधि   भूमि पर बिछे हुए […]

Read Article →

हलासन (Halasana) करने का विधि और लाभ !!


  हलासन (Halasana) इस आसन में शरीर का आकार हल जैसा बनता है इसलिए इसको हलासन कहा जाता है।ध्यान विशुद्धाख्या चक्र में। श्वास रेचक और बाद में दीर्घ।  हलासन के विधि […]

Read Article →

पवनमुक्तासन (Pavanamuktasana) करने का विधि और लाभ !!


  पवनमुक्तासन (Pavanamuktasana) शरीर में स्थित पवन (वायु) यह आसन करने से मुक्त होता है। इसलिए इसे पवनमुक्तासन कहा जाता है। ध्यान मणिपुर चक्र में। श्वास पहले पूरक फिर कुम्भक और […]

Read Article →