चंद्रग्रहण के समय निर्देश

07 अगस्त 2017 सोमवार को भूभाग में ग्रहण का समय रात्रि 10:52 से 12:49 तक खंडग्रास चन्द्रग्रहण हैं (पूरे भारत में दिखेगा ।नियम पालनीय हैं)

चंद्रग्रहण के समय किया हुआ जप लाख गुना फलदायी होता है और सूर्यग्रहण के समय किया हुआ जप १० लाख गुना फलदायी होता है ।

चंद्रग्रहण पर करने योग्य 

1. ग्रहण के समय भगवान का चिंतन, जप, ध्यान करने पर उसका लाख गुना फल मिलता है , ग्रहण के समय हज़ार काम छोड़ कर मौन और जप करिए ।

2. ग्रहण लगने के पहले खान – पान ऐसा करिए कि आपको बाथरूम में ना जाना पड़े ।    

चंद्रग्रहण पर ना करने योग्य

1. ग्रहण के समय सोने से रोग बड़ते हैं ।

2. ग्रहण के समय सम्भोग करने से सुअर की योनि मिलती है ।

3. ग्रहण के समय मूत्र त्याग नहीं करना चाहिए, दरिद्रता आती है ।

4. ग्रहण के समय धोखाधड़ी और ठगाई करने से सर्पयोनी मिलती है ।

5. ग्रहण के समय शौच नहीं जाना चाहिए, वर्ना पेट में कृमि होने लगते हैं ।

6. ग्रहण के समय जीव-जंतु या किसी की हत्या हो जाय तो नारकीय योनि में जाना पड़ता है ।

7. ग्रहण के समय भोजनमालिश करने वाले को कुष्ट रोग हो जाता है ।

8. ग्रहण के समय पत्ते, तिनके, लकड़ी, फूल आदि नहीं तोड़ने चाहिए ।

9. स्कन्द पुराण के अनुसार ग्रहण के समय दूसरे का अन्न खाने से १२ साल का किया हुआ जप, तप, दान स्वाहा हो जाता है ।

10. ग्रहण के समय अपने घर की चीज़ों में कुश, तुलसी के पत्ते अथवा तिल डाल देने चाहिए ।

11. ग्रहण के समय रुद्राक्ष की माला धारण करने से पाप नाश हो जाते हैं ।

12. ग्रहण के समय दीक्षा अथवा दीक्षा लिए हुए मंत्र का जप करने से सिद्धि हो जाती है ।

 

…. 🙏🏻 🙏🏻 ….

 

Advertisements