अर्धमत्स्येन्द्रासन (Ardha Matsyendrasana) करने का विधि और लाभ !!


  अर्धमत्स्येन्द्रासन (Ardha Matsyendrasana) कहा जाता है कि मत्स्येन्द्रासन की रचना गोरखनाथ के गुरू स्वामी मत्स्येन्द्रनाथ ने की थी। वे इस आसन में ध्यान किया करते थे। मत्स्येन्द्रासन की आधी […]

Read Article →

योगमुद्रासन (Yogamudrasana) करने का विधि और लाभ !!


  योगमुद्रासन (Yogamudrasana) योगाभ्यास में यह मुद्रा अति महत्त्वपूर्ण है, इससे इसका नाम योगमुद्रासन रखा गया है। ध्यान मणिपुर चक्र में। श्वास रेचक, कुम्भक और पूरक। योगमुद्रासन के विधि   पद्मासन लगाकर दोनों […]

Read Article →

गोरक्षासन या भद्रासन (Gorakshasana or Bhadrasana) करने का विधि और लाभ !!


  गोरक्षासन या भद्रासन (Gorakshasana or Bhadrasana) ध्यान मूलाधार चक्र में। श्वास प्रथम स्थिति में पूरक और दूसरी स्थिति में कुम्भक। गोरक्षासन या भद्रासन के विधि   बिछे हुए आसन […]

Read Article →

चक्रासन (Chakrasana) करने का विधि और लाभ !!


  चक्रासन (Chakrasana) इस आसन में शरीर की आकृति चक्र जैसी बनती है। अतः चक्रासन कहा जाता है। ध्यान मणिपुर चक्र में। श्वास दीर्घ, स्वाभाविक। चक्रासन के विधि    भूमि पर बिछे हुए […]

Read Article →

मयूरासन (Mayurasana) करने का विधि और लाभ !!


मयूरासन (Mayurasana) इस आसन में मयूर अर्थात मोर की आकृति बनती है, इससे इसे मयूरासन कहा जाता है। ध्यान मणिपुर चक्र में। श्वास बाह्य कुम्भक। मयूरासन के विधि   जमीन पर […]

Read Article →